उस आग में क्या खोया?

किसी एक की मौत किसी दुसरे की ज़िन्दगी बदल देती है,
एक जिंदा लाश उस मौत का मतलब समझने में,
आस-पास के जिंदा लोगों से कई निःशब्द सवाल पूछते हुए
तलाश करती है कोई आरोपी.

उठाकर मेरी उंगली, उसे तुम्हारे चेहरे के सामने रखूं
न तो मरनेवाला लौट आएगा, न मेरे आँसू थमेन्गे
न मतलब कोई सामने आएगा, न जी पाउंगी मैं
पर अकेले जिंदा रहने का मक्सद मिल जायेगा.

शनिचर को हमने सुझॅन बियर द्वारा दिग्दर्शीत चित्रपट “द थिंग्स वी लॉस्ट इन द फायर (२००७)” देखा.

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s