मेरे शब्द और मैं

"आप इतनी अच्छी हिंदी बोल लेते हो?" बम्बई में रह कर, आपकी पूरी दुनिया सुधर सकती है. आपकी भाषा, मगर, भ्रष्ट हो जाएगी, शायद नष्ट भी हो जाएगी. पता नही कहाँ, पता नहीं क्यूँ, बम्बई के बाहर, मैं अच्छी हिंदी बोल लेता हूँ. आयेला, गयेला, लागेला - इन शब्दों का प्रयोग बम्बई के बाहर नहीं … पढ़ना जारी रखें मेरे शब्द और मैं

वो शहर…

वो शहर की भीड़ में अपना रास्ता ढूंढना वो ठेले पर सस्ते में जल्दी से नाश्ता करना वो वक्त को बचाने के लिए लोकल से लटकना वो पसीने से लथपथ धूप मे सुख रही कमीज़ वो दर्द भरे बदन की आँखों मे कल के सपने वो फिसलते हुए लमहें, उन्हे बटोरने का प्रयास वो घर … पढ़ना जारी रखें वो शहर…